समर्थक

शनिवार, 26 मई 2012

गुफ्तगू के जून-2012 अंक में...

गुफ्तगू के जून-2012 अंक में

3.ख़ास ग़ज़लें - मीर, फि़राक़ गोरखपुरी, मज़रूह सुल्तानपुरी,दुष्यंत कुमार
4. आपकी बात
5-6. संपादकीयः मंच पर चुटकेलेबाजी
ग़ज़लें
7.पद्मश्री बेकल उत्साही, बशीर बद्र,शकेब जलाली
8.मुनव्वर राना, इब्राहीम अश्क, मुजफ्फर हनफ़ी
9.सागर होशियारपुरी, असद अली ‘असद’,डाॅ. कैलाश निगम
10.ख़ान हसनैन आकि़ब, शकील ग़ाज़ीपुरी
11. अंकित सफ़र,सरदार पंछी, रहीम होशंगाबादी
12.सीमा गुप्ता, दिलीप सिंह दीपक,पूनम कौसर,अजय अज्ञात
13.प्रकाश सूना, डाॅ. माया सिंह माया, वीनस केसरी
14.जि़या ज़मीर, नवीन आज़म, इरशाद अहमद बिजनौरी, श्याम अंकुर
15.सिबतैन परवाना,सेवाराम गुप्ता ‘प्रत्यूष’
कविताएं
16.कैलाश गौतम, डाॅ. बुद्धिनाथ मिश्र
17.डाॅ. प्रीत अरोड़ा,यूसुफ खान ‘साहिल’
18.शिवानंदन सिंह सहयोगी
19.डाॅ. प्रदीप कुमारी चित्रांशी
20-21.तआरुफ़ः सुशील द्विवेदी
22-24. कुछ बोलते अफ़साने ख़ामोश ग़ाज़ीपुरी के बहाने- उमाशंकर तिवारी
25-29. विशेष लेख: सफेद जंगली कबूतर- मुनव्वर राना
30-32. इंटरव्यू: निदा फ़ाज़ली
33-34. चैपाल: ग़ालिब को भारत रत्न क्यों नहीं ?
35-37. कहानी: नफ़रतों की सरहदें - अंसारी एम. ज़ाकिर
38-39. अदबी ख़बरें
40-44. अख़्तर अज़ीज़ के सौ शेर
45. इल्मे काफि़या भाग- 10
46-47.तब्सेरा: अपना तो मिले कोई, कबीर चैरा, आर-पार
परिशिष्टः नरेश कुमार ‘महरानी’
48.नरेश कुमार ‘महारानी’ का परिचय
50.मंगल कामना - न्यायमूर्ति प्रेम शंकर गुप्त
51.सामाजिक मान्यताओं को नष्ट करने की क्षमता- केशरी नाथ त्रिपाठी
52-53.शिल्प की तलाश - नंदल हितैषी
54-55. प्रयास की कविताएं - रविनंदन सिंह
56.लाजवाब प्रयास - मुकेश चंद्र
57. कुछ अपने बारे में
58-80. मय का प्याला



मंगलवार, 8 मई 2012

गुफ़्तगू पत्रिका द्वारा ‘तरही मुशायरा’ स्तंभ की शुरुआत


गुफ़्तगू पत्रिका द्वारा अप्रैल- जून २०१२ (अंक – ३४) से तरही मुशायरा’ स्तंभ की शुरुआत की जा रही है, प्राप्त ग़ज़लों में से सर्वश्रेष्ठ दो ग़ज़लों को पुरुस्कृत किया जायेगा और पुरूस्कार स्वरूप गुफ्तगू पत्रिका की ५ साल की सदस्यता प्रदान की जायेगी यदि पुरुस्कृत शायर पहले से गुफ़्तगू पत्रिका के सदस्य होंगे तो गुफ्तगू पब्लिकेशन से प्रकाशित २०० रु मूल्य की साहित्यिक पुस्तक भेंट की जायेगी| तथा पत्रिका के अगले अंक में दोनों पुरुस्कृत ग़ज़लें तथा १० अन्य श्रेष्ठ ग़ज़लों को प्रकाशित किया जायेगा|

अगले अंक के लिए मिसरा-ए-तरह =

‘लो अब तुम्हारी राह के दीवार हम नहीं’
 221   2121  1221  212
बह्र -ए- मुजारे मुसम्मन अखरब मक्फूफ़ महजूफ
मफऊलु फाइलातु मफाईलु फाइलुन
रदीफ: हम नहीं 
काफिया: आर (दीवार, इन्कार, बीमार, तलबगार, खतावार आदि)

ग़ज़ल भेजने की अंतिम तिथि = २० जून २०१२

ग़ज़ल भेजने की शर्त -
१- ग़ज़ल उपरोक्त मिसरा -ए- तरह के अनुरूप हो
२- ग़ज़ल अरूजानुसार दुरुस्त हो तथा अन्य दोष से भी मुक्त हो
३- कम से कम ५ तथा अधिकाधिक ७ शेर हों
४- ग़ज़ल में मक्ता न हो अर्थात अंतिम शेर में तखल्लुस (उपनाम) का प्रयोग न किया गया हो
५- ग़ज़ल में मिसरा-ए-तरह पर गिरह का शेर अवश्य हो, यह ध्यान रहे कि मिसरे की गिरह मतला या हुस्ने मतला में न बांधी गयी हो  
उपरोक्त शर्तों का पालन न करने वाली रचना पर विचार नहीं किया जायेगा

तरही मुशायरा का नियम -
१ – प्राप्त कुल ग़ज़लों में से १२ ग़ज़लों का चयन अरूज के जानकार उस्ताद शायर द्वारा किया जायेगा जिनको ग़ज़लकार का नाम पता नहीं बताया जायेगा

२- एक शायर द्वारा एक से अधिक ग़ज़ल भेजने पर उस शायर की किसी ग़ज़ल पर विचार नहीं किया जायेगा
३- ग़ज़ल के नीचे रचनाकार का पूरा नाम, पूरा पता, पिन कोड, मोबाईल नंबर अंकित रहना अतिआवश्यक है
४- पत्रिका के अपगे अंक में मात्र १२ ग़ज़लें प्रकाशित होंगी, बाकी ग़ज़लों की वापसी संभव नहीं होगी|
(जिन श्रेष्ठ ग़ज़लों को तरही मुशायरा स्तंभ में स्थान नहीं मिल पायेगा उन्हें गुफ्तगू के आगामी अंक में प्रकाशित किया जा सकता है) 
ग़ज़ल भेजने का पता -

सम्पादकीय कार्यालय गुफ़्तगू पत्रिका
इम्तियाज़ अहमद गाज़ी
१२३ ए /१, हरवारा
धूमनगंज, इलाहाबाद
पिन -२११०११
मो. - 0889316790, 9839942005

ग़ज़ल  ई-मेल से भी भेज सकते हैं  -
guftgu007@rediffmail.com